सेहत के लिए रामबाण है सेब, प्रतिदिन करें सेवन नहीं पड़ेंगे कभी बीमार

सेब विटामिन से भरपूर होता है। वैज्ञानिक भाषा में इसे ‘मेलस डोमेस्टिका’ (Melus domestica) कहते हैं। सभी फलों में सेब को स्वास्थ्य के लिए अधिक फायदेमंद माना जाता है। सेब में एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन, डाइट्री फाइबर और कई अन्य पोषक तत्व होते हैं। अपने विविध पोषक तत्वों के कारण सेब का रोजाना सेवन करना आपको कई तरह की गंभीर बीमारियों से दूर रखने में मदद कर सकता है।

कैंसर, मोटापा, हृदय रोग, मधुमेह और कई अन्य तरह की बीमारियों को दूर करने में सेब का सेवन हमारे लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। इसीलिए वर्षों से एक कहावत चली आ रही है- ”एन एप्पल अ डे किप्स द डॉक्टर अवे” पर क्या आपने कभी सोचा कि आखिर ऐसे क्यों कहा जाता है, सेब में ऐसे क्या गुण हैं जो हमारी सेहत के लिए इतने फायदेमंद हो सकते हैं? आइए जानते है सेब में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में…

सेब में मौजूद पोषक तत्व

एक मध्यम आकार के सेब (करीब 182 ग्राम) से कई प्रकार के पोषक तत्व जैसे कैलोरी (95), कार्ब्स (25 ग्राम), फाइबर (4 ग्राम) विटामिन सी (दैनिक आवश्यकता का 14 प्रतिशत), पोटेशियम (दैनिक आवश्यकता का 6 प्रतिशत) और विटामिन-के (दैनिक आवश्यकता का 5 प्रतिशत) पाया जाता है।

सेब के सेवन के फायदे:-

>> सेब में फ्लैवोनॉइड्स एवं फेनालिक एसिड होता है जो वायुयान में यात्रा करने पर आने वाली सूजन को कम करता है और फेफड़ों एवं प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ बनाता है। यह अस्थमा पीड़ित रोगी को स्वतंत्र रूप से साँस लेने में सहायता करता है।

>> सेब का रस उम्र के साथ बढ़ने वाले मानसिक रोगों के लिए भी प्रभावशाली हो सकता है। एक पशु पर किये गए अध्ययन में, यह देखा गया की सेब का रस मस्तिष्क में ऑक्सीजन को बढ़ाने और मानसिक कमजोरी को कम करने का काम करता है।

>> सेब एंटीओक्सीडेंट्स एवं फायटोकैमिकल्स का एक समृद्ध स्रोत है जो ना केवल कैंसर को शरीर पर कब्जा करने एवं ट्यूमर के विकास को रोकता है अपितु कैंसर की कोशिकाओं (cancer cells) को नष्ट भी करता है। सेब पेट, स्तन, जिगर और फेफड़ों के कैंसर को रोकने में विशेष रूप से फायदेमंद है।

>> सेब पानी और फाइबर का एक अच्छा स्रोत है जो शरीर की आंतरिक सफाई करने के रूप में काम करता है। इसमें मैलिक एसिड (malic acid) होता है जो लार के उत्पादन को बढ़ाता है, जिससे मुंह के बैक्टीरिया हट जाते हैं। सेब दाँतों का पीलापन दूर करने एवं उन्हें स्वस्थ रखने में अत्यंत लाभदायक है। 

>> सेब में पाए जाने वाला पैक्टिन (pectin) इन्सुलिन के उत्पाद को नियंत्रित कर स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल बनाए रखने में मदद करता है। पेक्टिन फाइबर और अन्य घटक, जैसे एंटीऑक्सीडेंट पॉलीफेनॉल (antioxidant polyphenols) को “खराब” (एलडीएल) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए प्रभावशाली माना जाता है। 

>> सेब ना केवल रक्त में शुगर की मात्रा को नियंतत्रण में रखता है, अपितु शुगर के होने की संभावना को भी कम करता है। सेब पाचन प्रक्रिया और कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण (carbohydrate absorption) को प्रभावित करता है और रक्त प्रवाह में सुधार लाता है। यह इंसुलिन के उत्पादन को भी बढ़ाता है। 

>> सेब कैल्शियम का एक अच्छा स्रोत माना जाता है। सेब में मौजूद अधिक कैल्शियम ऑस्टियोपोरोसिस और रूमेटोइड गठिया जैसी बीमारियों को रोकने में मदद करता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट्स (anti-oxidants) भी निहित हैं, जो ना केवल हड्डियों को मजबूती प्रदान करते हैं, अपितु हड्डी टूटने से भी बचाते हैं।

>> सेब हृदय का एक बहुत ही अच्छा साथी है। सेब में विविध प्रकार के फायटोन्यूट्रियन्ट्स समाविष्ट हैं जो हृदय प्रणाली की रक्षा करने में अत्यंत सक्षम हैं। यह हृदय पर ऑक्सीडेशन से होने वाली क्षति पर रोक लगा कर हृदय रोगों को बढ़ने से पहेले ही रोक देता है। यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को घटाता हैं और शुगर की मात्रा को भी कंट्रोल में रखता है। यह खून के नियमित प्रवाह को बनाए रखने में भी अत्यंत सहायक है। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending