पंजशीर में तालिबान के कब्जे की खबरों के बीच सालेह ने जारी किया वीडियो, कहा- नही टेकेंगे तालिबान के सामने घुटने

20 साल बाद अफगानिस्तान में अपना कब्जा जमाने के बाद शुक्रवार को तालिबान ने पंजशीर पर भी कब्जा जमाने का दावा ठोक डाला। ऐसी खबरे सामने आ रही है की पंजशीर भी तालिबान के कंट्रोल में चला गया है। इतना ही नही खबर तो ये भी सामने आ रही है की खुद को अफगान का राष्ट्रपति घोषित करने वाले अमरुल्ला सालेह भी पंजशीर से भाग गए हैं। हालांकि, इस बीच अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति और पंजशीर से तालिबान को चुनौती दे रहे अमरुल्लाह सालेह खुद एक वीडियो के जरिए सामने आए हैं और उन्होंने कहा कि वह देश छोड़कर भागे नहीं हैं।

अमरुल्लाह सालेह ने बीती देर रात वीडियो जारी कर कहा, कि वह पंजशीर घाटी में ही हैं और रेसिस्टेंस फोर्स के कमांडरों और राजनीतिक हस्तियों के साथ हैं। अमरुल्लाह सालेह ने तालिबान के कब्जे की बात को सिरे से खारिज करते हुए कहा है की पंजशीर घाटी पर पिछले चार से पांच दिनों से तालिबान और अन्य बलों द्वारा हमला किया जा रहा है, लेकिन विद्रोहियों द्वारा किसी भी क्षेत्र पर कब्जा नहीं किया गया है। 

अमरुल्लाह सालेह ने वीडियो जारी कर कहा-“कुछ मीडिया रिपोर्ट्स से यह बात फैल रही है कि मैं अपने देश से भाग गया हूं। यह बिल्कुल निराधार है। यह मेरी आवाज है, मैं आपको पंजशीर घाटी से, अपने बेस से कॉल कर रहा हूं। मैं अपने कमांडरों और अपने राजनीतिक नेताओं के साथ हूं। हम स्थिति का आंकलन कर रहे हैं। बेशक यह एक कठिन स्थिति है, हम तालिबान, पाकिस्तानियों और अल कायदा और अन्य आतंकवादी समूहों के आक्रमण के अधीन हैं। हमारा मैदान पर कब्जा है, हमने अभी क्षेत्र नहीं खोया है।

पिछले चार-पांच दिनों में तालिबान ने अपना आक्रमण तेज किया है, हालांकि, तालिबान को अब तक कोई अहम फायदा नहीं मिल सका है। इस हमले में उनके भी कुछ लोग मरे हैं और हमारे भी। मैं इस वीडियो के माध्यम से आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि इस समय जो कुछ भी कहा गया है कि मैं घायल हो गया हूं या मैं भाग गया हूं, वह निराधार, फर्जी खबर है। प्रतिरोध जारी है और जारी रहेगा। मैं यहां अपनी मिट्टी के साथ हूं, अपनी धरती और इसकी गरिमा की रक्षा के लिए हूं। हमने तालिबान के सामने कभी नहीं झुकने की कसम खाई है।”

बता दें कि समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने कहा था कि तालिबान ने पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया है। जो लोग भी यहां हमारा विरोध कर रहे थे, तालिबान ने उन्हें मात दे दी है। अब पंजशीर तालिबान के नियंत्रण में है। गौरतलब है कि पिछले चार दिन से पंजशीर में तालिबान और रेजिस्टेंस फोर्सेज के बीच जबर्दस्त लड़ाई चल रही है। गुरुवार रात लड़ाई इस कदर भीषण हो गई थी कि अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी को दोनों पक्षों से शांति की अपील करनी पड़ी थी।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending