अमेरिका की मदद और भारत की रणनीति देगी चीन को मात

अमेरिका के ट्रंप प्रशासन के दौरान पिछले 5 वर्षों में भारत औऱ अमेरिका के रिश्तें काफी मजबूत हुए है और इसमें शायद ही किसी को शख होगा. अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति ट्रम्प और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच दोस्ती भी जगजाहिर हैं. भारत और अमेरिका की ये दोस्ती उन देशों को खटकती है जो भारत का हित नहीं चाहते है. खासकर चीन को जो हमेशा चालबाजी का शहारा तो लेता है पर उसे हमेशा मुंह की खानी पड़ी हैं. वर्तमान में भारत और चीने के बीच तनाव जारी है और दोनों देश के बीच सीमा विवाद औऱ अन्य मामलों को लेकर भी रिशते काफी खराब है. अब सवाल ये कि क्या अमेरिका और भारत की दोस्ती चीन से भारत के खराब रिश्ते का एक कारण है ? इस सवाल पर कई कूटनीतिक विशेषज्ञ अपनी मुहर लगाते हैं औऱ उनका जवाब हां होता है. बकायदा चीन भी इस बात के संकेत दे चुका हैं कि भारत की अमेरिका से दोस्ती उसेक और भारत के बीच रिश्ते खराब होने का कारण है. हाल ही में अमेरिकी प्रशासन के कुछ गोपनीय दस्तावेज सामने आए है जिसके अनुसार अमेरिका ने बहुत पहले ही ये फैसला कर लिया था कि हिंद प्रशांत क्षेत्र में चीन के मुकाबले वो भारत को मजबूत बनाने के लिए हर संभव मदद करेगा. व्हाइट हाउस के तरफ से ये दस्तावेज जारी किए गए है. इन द्स्तावेजों में तो ये भी कहा गया है कि भारत को न सिर्फ अमेरिका द्वारा सैन्य मदद मुहैया कराई जाएगी बल्कि भारत को एक नेट सिक्योरिटी प्रोवाइडर के तौर पर आगे बढ़ाया जाएगा. साथ ही भारत की एक्ट ईस्ट नीति को भी मदद किए जाने की बात इन दस्तावेजों में अमेरिका ने की है. इसके अलावा अमेरिका ने भारत को एनएसी (NSG) का सदस्य बनाने की भी बात कही है. गौरतलब है कि अमेरिका के लाख कौशिशों के बावजूद भी भारत NSG का सदस्य नहीं बन पाया है क्योकि चीन इसमें अड़चण पैदा करता रहा है. खैर इन दस्तावेजों के सार्वजनिक होने के बाद एक बात तो साफ हो गई है कि सुपरपावर अमेरिका हिंद प्रशांत क्षेत्र में भारत को मजबूत करने के लिए हर संभव प्रयास करने की दिशा में आगे बढ़ने की और दिख रहा है. अब जैसा की अमेरिका की कमान नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन संभालेंगे तो कई अंतरराष्ट्रीय कूटनीतिक मानते है कि बाइडन प्रशासन की भारत के प्रति नीति भी ऐसी ही रहेगी और इसमे कोई खास बदलाव नहीं आएगा.

ReplyForward

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending