अमेरिका ने 48 घंटे के भीतर अपने 13 सैनिकों की मौत का लिया बदला, ड्रोन से बमबारी कर आतंकियों को मार गिराया

अफगानिस्तान के काबुल एयरपोर्ट पर बम धमाकों में अपने 13 जवानों को खोने के बाद अमेरिका ने 48 घंटे के अंदर-अंदर आतंकियों से बदला ले लिया है। दरअसल, काबुल हमले के एक दिन बाद ही अमेरिका ने अफगानिस्तान में आईएस के आतंकियों के खिलाफ एयरस्ट्राइक की है और हमले के प्लानर यानी साजिशकर्ता को मार गिराया है।

खबर के मुताबिक, अमेरिका ने मानवरहित विमान के जरिए आईएस के ठिकाने पर ड्रोन से बमबारी कर काबुल आतंकी हमले के साजिशकर्ता को मार गिराया है। इस तरह से अमेरिका ने काबुल ब्लास्ट के 48 घंटे के भीतर अपने 13 सैनिकों की मौत का बदला आईएसआईएस-के से ले लिया है। हालांकि, हमले में किसी आम नागरिक के हताहत होने की खबर सामने नहीं आई है।

गौरतलब है कि गुरुवार को काबुल में हुए आत्मघाती हमलों में अमेरिकी नौसैनिक के 13 जवानों की मौत हो गई थी और करीब 169 से अधिक लोग घायल हो गए थे, जिनमें ज्यादातर अफगानी नागरिक थे। इसके बाद ही अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने आतंकियों को चेताया था कि वह इस काबुल ब्लास्ट का बदला जरूर लेंगे और ढूंढकर इस हमले के साजिशकर्ता को मार गिराएंगे।

उन्होंने व्हाइट हाउस में भावुक होते हुए कहा था कि हम इस हमले को न भूलेंगे और न माफ करेंगे, ढूंढकर आतंकियों का शिकार करेंगे। आत्मघाती हमले से दहले काबुल एयरपोर्ट पर एक और धमाके का खतरा है। अमेरिका के अनुसार, आतंकी एक बार फिर बड़ी साजिश रच रहे हैं। ब्रिटेन और स्वीडन ने भी हमले की आशंका जताई है।

जानकारी के मुताबिक, नॉर्थ गेट पर कार या रॉकेट धमाका हो सकता है। इस वजह से अफगानिस्तान की राजधानी में एयरपोर्ट पर सिक्योरिटी और बढ़ाई जा रही है। वहीं, खतरे की आशंका के बीच काबुल से 16 घंटे बाद शुक्रवार दोपहर 12 बजे से उड़ानें बहाल हो गईं।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending