अलर्ट! 72 घंटे के भीतर बीमा कंपनी को देनी होगी फसल नुकसान की जानकारी वरना नही मिलेगा मुआवजा

राजस्थान में भारी बारिश से कई फसलें तबाह हो गई हैं। जिसके कारण किसानों को आर्थिक रूप से काफी नुकसान हुआ है। हालातों के मद्देनजर मंगलवार को कृषि आयुक्त डॉ. ओम प्रकाश कोटा पंहुचे और कृषि अधिकारियों की टीम के साथ अतिवृष्टि क्षेत्रों का दौरा कर खरीफ की फसल में नुकसान का जायजा लिया। बता दें कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक के अनुसार संभाग में अतिवृष्टि के कारण धान के अतिरिक्त अन्य सभी फसलों में अत्यधिक नुकसान हुआ है।

कृषि आयुक्त ने किसानों को अतिवृष्टि से हुई फसल खराबी की सूचना तुरंत जिले की अधिसूचित बीमा कंपनी के टोल फ्री नंबर पर देने की सलाह दी। उन्होंने कहा इसमें 72 घंटे से अधिक की देरी न करें। इसकी ऑनलाईन शिकायत दर्ज करवाएं। उन्होंने कहा कि टोल फ्री नंबरों पर फोन करने के अलावा गूगल प्ले स्टोर से Crop Insurance ऐप डाउनलोड करके उसकी सहायता से भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

अधिक जानकारी के लिए किसान अपने क्षेत्र के कृषि पर्यवेक्षक, सहायक कृषि अधिकारी या नजदीकी कृषि कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं। कृषि आयुक्त ने सभी को समय पर कृषकों का आवेदन करवाने, उनके खेतों का निर्धारित कमेटी द्वारा सर्वे करवाने एवं खराब फसलों का मुआवजा जल्द से जल्द दिलवाने के निर्देश दिए। गांवों में फसल नुकसान का जायजा लेने के बाद कृषि आयुक्त की अध्यक्षता में पीएम फसल बीमा योजना से संबंधित अधिकारियों की एक बैठक हुई। 

ऐसे करें बीमा कंपनी से संपर्क

>> बूंदी जिले के किसान फ्यूचर जनरल इंडिया इंश्योरेंस कंपनी के टोल फ्री नंबर 18002664141 पर फोन करें।

>> कोटा जिले के कृषक बजाज एलाइन्ज जनरल इंश्योरेंस कंपनी के टोल फ्री नंबर 18002095959 को मिलाएं।

>> बारां जिले के किसान एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया के टोल फ्री नंबर 18004196116 पर फोन करें।

>> झालावाड जिले के किसान एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी के नंबर 18001021111 पर शिकायत दें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending