योगी सरकार पर अखिलेश यादव का तंज बोले- नफरत की राजनीति फैलाकर सत्ता का दुरुपयोग कर रहे है योगी

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी (Barabanki) जनपद के राम सनेही घाट में 100 साल पुरानी मस्जिद (Mosque) को कथित रूप से ध्वस्त (Demolition) किए जाने की घटना को समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने निंदनीय बताया है। 

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि, “शासन-प्रशासन का यह कृत्य भारतीय संविधान के सामाजिक सद्भाव की अवधारणा के खिलाफ है। प्रदेश में चुनाव निकट आता देख भाजपा सांप्रदायिक तनाव बढ़ाने में सक्रिय हो गई है। देश की गंगा-जमुनी संस्कृति बिगाड़ कर भाजपा अपनी राजनीति करती रही है।”

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घटना की जांच उच्च न्यायालय के जज से कराने व मस्जिद का फिर से निर्माण की मांग की है। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा नफरत की राजनीति से धार्मिक उन्माद फैलाना चाहती है। जनता को इससे सतर्क रहने की जरूरत है। 100 वर्ष पुरानी मस्जिद तोड़ना सत्ता का दुरुपयोग है। भाजपा का ऐसे कृत्यों में संलिप्त रहने का इतिहास रहा है।

सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी जताया कड़ा ऐतराज

सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने मस्जिद को ध्वस्त किए जाने पर कड़ी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि यह मस्जिद सुन्नी वक्फ बोर्ड में दर्ज थी। इसे ध्वस्त किया जाना कानून के खिलाफ है। उन्होंने इस अवैध व मनमानी कार्रवाई की कड़ी निंदा की है।वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा कि यह न सिर्फ कानून के खिलाफ है, बल्कि शक्तियों का दुरुपयोग है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending