मोदी से मुलाकात कर पंजाब सीएम ने रखी किसानों के हक की बात, कृषि कानूनों को निरस्त करने का किया अनुरोध

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने शुक्रवार को यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की और तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने का अनुरोध किया। चन्नी ने यह भी कहा कि उन्होंने किसान आंदोलन के जल्द समाधान की मांग की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा है कि वह भी इसे खत्म करना चाहते हैं और इस दिशा में काम कर रहे हैं।

मुख्य रूप से पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसान, पिछले साल नवंबर से तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं और कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे हैं। मोदी से मुलाकात के दौरान चन्नी ने पंजाब में धान की खरीद फौरन शुरू करने का आग्रह किया, जिसे इस बार 10 अक्टूबर तक टाल दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा, ”मैंने प्रधानमंत्री से तीन कृषि कानूनों पर इस आंदोलन को समाप्त कराने का आग्रह किया है। उन्होंने मेरी बात ध्यान से सुनी और कहा कि वह भी इस समस्या का समाधान चाहते हैं और इस दिशा में काम कर रहे हैं।” पंजाब के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से विरोध कर रहे किसानों के साथ बातचीत फिर से शुरू करने का भी आग्रह किया। चन्नी ने कहा, ”क्योंकि मुझे लगता है कि इस मामले को केवल बातचीत के जरिए ही सुलझाया जा सकता है।”

मुख्यमंत्री ने कहा, ”मैंने उनसे (प्रधानमंत्री) से आग्रह किया कि तीनों कानूनों को निरस्त कर देना चाहिए।” मुख्यमंत्री ने कहा, ”मैंने उनसे कहा है कि पंजाब की अर्थव्यवस्था कृषि आधारित है और पंजाब तभी तरक्की कर सकता है जब हमारे किसान और खेत मजदूर खुश हों।” चन्नी ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री से यह भी कहा कि पंजाब किसानों के आंदोलन से प्रभावित हुआ है और राज्य ने हमेशा देश के लिए लड़ाई लड़ी है और ”हमारे लोगों ने स्वतंत्रता संग्राम और देश की एकता के लिए अपने प्राणों की आहुति दी है।”

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने भी चन्नी के साथ बैठक की तस्वीर ट्विटर पर साझा की और कहा, ”पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की।” मुख्यमंत्री बनने के बाद चन्नी की मोदी से यह पहली मुलाकात है। नवजोत सिंह सिद्धू के मुद्दे के बारे में पूछे जाने पर चन्नी सवालों से बचते नजर आए। आधे घंटे से ज्यादा समय तक चली बैठक के बाद चन्नी ने कहा, ”मैं मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री से मिला। यह शिष्टाचार भेंट थी। यह पहली बैठक थी और इसलिए ऐसा कोई एजेंडा नहीं था। फिर भी मैंने उनके समक्ष तीन मुद्दे उठाए हैं।”

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending