आखिर क्यों होता है UTI, जानिए इसके लक्षण और कारण ?

कई लोगों को पेशाब करते वक्त जलन महसूस होती है. यह मूत्र पथ के संक्रमण यानी कि यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन ( Urinary Tract Infection ) हो सकता है जिससे की आम भाषा में यूटीआई कहा जाता है. यूटीआई वैसा संक्रमण है जो मूत्र प्रणाली के किसी भी हिस्से में हो सकता है. यह गुर्दे, मुत्रवाहिनी और मूत्र मार्ग में होने वाला इंफेक्शन है.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों की माने तो एक महिला को यूटीआई होने की संभावना पुरुषों के मुकाबले अधिक होती है. एक शोध में सामने आए आंकड़ों के मुताबिक प्रत्येक 10 में से एक पुरुष तो वहीं हर दो में से एक महिला को यूटीआई को होने का खतरा बना रहता है.  

इस कारण से होता है यूटीआई

यूटीआई होने के कई कारण हो सकते हैं. जैसे कि कम पानी पीना ,खट्टे मसालेदार शर्करा युक्त भोजन का सेवन करना और अधिक मात्रा में कैफीन, कार्बोहाइड्रेट युक्त पदार्थो का सेवन भी यूटीआई को बुलावा देता है. आयुर्वेद की मानें तो पित्त को बढ़ाने वाली कई चीजें भी यूटीआई का कारण बनती है. ऐसे में यूटीआई से बचाव के लिए इन चीजों के सेवन पर नियंत्रण रखना चाहिए.

क्या है इसके लक्षण ?

1. पेट के निचले हिस्से में दर्द
2. पेशाब में झाग आना
3. ठंड लगना 
4. जी मचलना
5. बार-बार पेशाब लगना

यूटीआई से बचने के लिए इन चीजों का सेवन करना जरूरी

1. चावल का पानी – चावल का पानी यूटीआई से बचा सकता है। दरअसल मुट्ठी भर चावल को धोकर एक मिट्टी के बर्तन या फिर स्टील के बर्तन में 2 से 6 घंटे के लिए रख दें। इसके बाद चावल को 2 से 3 मिनट के लिए पानी में भिगोकर रख दें और इसके छानकर इसके पानी का सेवन करें यूटीआई के दौरान होने वाली परेशानियों में यह काफी फायदेमंद माना गया है।

2. आंवले का रस – आंवले का रस काफी अच्छा होता है दरअसल इसके शरीर से दरस रस के सेवन से शरीर को कई प्रकार के फायदे मिलते हैं तो वहीं यूटीआई के दौरान होने वाली परेशानियों को दूर करने में यह काफी अहम भूमिका निभाता है। 

3. नारियल का पानी – यूटीआई के दौरान नारियल के पानी का सेवन काफी राहत दिलाता है दरअसल नारियल का पानी काफी ठंडा होता है और इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत रखते हुए यूटीआई के दौरान होने वाली परेशानियों से बचाता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending