अफगान राजदूत ने गनी पर लगाया विश्वासघात का आरोप, उखाड़ फेंकी सभी तस्वीरें, देश लूटने के आरोप में की गिरफ्तारी की मांग

पड़ोसी देश ताजिकिस्तान में स्थित अफगान दूतावास में अशरफ गनी की तस्वीरों को हटा दिया गया है और उसके स्थान पर अमरुल्लाह सालेह की तस्वीर लगाई गई हैं। ताजिकिस्तान में अफगान राजदूत जहीर अघबर के अनुसार, अमरुल्ला सालेह संविधान के अनुसार वैध राष्ट्रपति हैं और वह उनकी बात ही मानेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि अशरफ गनी अपने साथ काफी पैसा लेकर गए हैं और उन्होंने अफगानिस्तान के साथ विश्वासघात किया है।

अफगान राजदूत ने आगे कहा कि गनी, मोहेब (एनएसए हमदुल्लाह मोहिब) और फजली (पूर्व राष्ट्रपति फजल महमूद फजली) को इंटरपोल द्वारा हिरासत में लिया जाना चाहिए और अंतरराष्ट्रीय अदालत में उनके खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए। क्योंकि इन्होंने लोगों के पैसे की चोरी की है। बता दें अफगानिस्तान में जिस दिन तालिबान ने पूरी तरह कब्जा किया, उसी दिन राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर भाग गए। जिसके बाद से हर कोई उन्हें लेकर नाराजगी जाहिर कर रहा है।

गौरतलब हो की उपराष्ट्रपति उमरुल्लाह सालेह (Amrullah Saleh) ने खुद को राष्ट्रपति घोषित कर दिया है। ऐसा कहा जा रहा है कि ताजिकिस्तान के अफगान दूतावास ने खुलकर सालेह का समर्थन किया है। इसके साथ ही उन्होंने इंटरपोल (Interpol) से मांग की है कि सार्वजनिक धन की चोरी के आरोप में अशरफ गनी, हमदुल्लाह मोहिब और फैजल महमूद फजली को गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

बता दें खुद को राष्ट्रपति घोषित करने वाले उपराष्ट्रपति ने अपने हालिया ट्वीट में कहा कि अब अमेरिका से बहस करना बेकार है। इसके साथ ही आगे लिखा कि “अफगानिस्तान के संविधान के मुताबिक, राष्ट्रपति की अनुपस्थिति, पलायन, इस्तीफा या मृत्यु के बाद उपराष्ट्रपति कार्यवाहक राष्ट्रपति बन जाता है। मैं अभी अपने देश के भीतर हूं और वैध तरीके से देखभाल करने वाला राष्ट्रपति भी हूं। मैं सभी नेताओं से उनके समर्थन और आम सहमति के लिए संपर्क कर रहा हूं।”

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending