जाति आधारित जनगणना की मांग को लेकर पीएम मोदी से मुलाकात करने पहुंचे दर्जन भर नेता, सुशील मोदी ने दिया अपना समर्थन

सोमवार को बिहार के वरिष्ठ भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने जाति-आधारित गणना को खुलकर समर्थन देते हुए ट्वीट कर लिखा, “भाजपा कभी भी जातिगत जनगणना के खिलाफ नहीं रही, इसलिए हम इस मुद्दे पर विधानसभा और विधान परिषद में पारित प्रस्ताव का हिस्सा रहे हैं।” उन्होंने सैकड़ों जातियों की संख्या शक्ति का आकलन करने पर सहमति व्यक्त की है।

इससे पहले 10 अगस्त को बीजेपी सांसद संघमित्रा मौर्य ने भी 127वें संशोधन बिल में हिस्सा लेते हुए जाति जनगणना की जोरदार पैरवी की थी। पिछड़ी जाति से ताल्लुक रखने वाले सांसद और जिनके पिता स्वामी प्रसाद मौर्य उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री हैं, ने कहा था, “पहले जानवर भी गिने जाते थे लेकिन पिछड़ी जाति नहीं। बीजेपी सरकार अब कर रही है।”

वहीं बिहार के विधायक अजय कुमार ने जाति आधारित जनगणना पर एएनआई से बात करते हुए कहा, “हमने मुख्यमंत्री से कहा कि हमें प्रधानमंत्री से मिलना चाहिए क्योंकि जाति आधारित जनगणना समय की जरूरत है। जाति आधारित शोषण आज भी होता है। जाति आधारित जनगणना से इसे सुधारा जा सकता है। हम मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में आज प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करेंगे।”

इसके साथ ही बिहार कैबिनेट मंत्री जनक राम ने भी कहा कि जाति आधारित जनगणना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जो भी निर्णय लें वह सभी को स्वीकार्य होगा। उन्होंने कहा, “मैं नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा हूं, जो आज प्रधानमंत्री से मुलाकात करेगा। जाति आधारित जनगणना के मुद्दे पर, प्रधानमंत्री जो भी निर्णय लेते हैं, वह हमें स्वीकार्य होना चाहिए।”

इन नेताओं ने भी किया समर्थन 

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ साथ ही प्रतिनिधिमंडल में राजद के तेजस्वी यादव, जद (यू) नेता और मंत्री विजय कुमार चौधरी, पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष जीतन राम मांझी, कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा और भाजपा नेता और बिहार सरकार में मंत्री जनक राम, इसके अलावा भाकपा-माले विधायक दल के नेता महबूब आलम, एआईएमआईएम के अख्तरुल इमाम, वीआईपी के मुकेश साहनी,

भाकपा के सूर्यकांत पासवान और माकपा के अजय कुमार ने भी खुलकर जातीय आधारित गणना का समर्थन किया है। बता दें सोमवार सुबह 11 बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जनता दल (यूनाइटेड), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सहित करीब दस दल जाति आधारित जनगणना की मांग को लेकर पीएम मोदी से मुलाकात करेंगे।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending