प्रदूषण के कारण वर्क फ्रॉम होम करेंगे दिल्ली सरकार के 50 प्रतिशत कर्मचारी, हुआ ऐलान

सर्दियों के दस्तक देने के साथ ही दिल्ली में प्रदूषण हर साल की तरह एक बार फिर बढ़ गया है। राजधानी दिल्ली में हवा की क्वालिटी फिर से खराब हो गई है जिसके कारण लोगों को सांस लेने और आंखों में जलन सहित कई अन्य परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दिल्ली के कई इलाकों में AQI काफी खराब स्तर में जा पहुंचा है जिसने दिल्ली की केजरीवाल सरकार सहित केंद्र की मोदी सरकार को सोचने पर मजबूर कर दिया है। दिल्ली में वायु प्रदूषण के बीच दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने बड़ा फैसला लिया है।

दरअसल, दिल्ली में प्रदूषण के बढ़ने के मद्देनजर केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के सरकारी दफ्तरों में काम करने वाले 50 फीसदी कर्मचारियों को वर्क फ्राम होम दिए जाने का ऐलान किया है। इस बात की जानकारी दिल्ली की केजरीवाल सरकार में पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने दी है। शुक्रवार को एक प्रेस वार्ता कर उन्होंने इसकी जानकारी दी। उन्होंने दिल्ल के निजी दफ्तरों को भी अपने कर्मचारियों के लिए वर्क फ्रॉम होम की सलाह दी है।

राजधानी दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर प्राइमरी विधालय भी अगेल आदेश तक बंद रहेंगे। इस बात का ऐलान गुरूवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने किया था। शुक्रवार को प्रेस वार्ता के दौरान गोपाल राय ने जानकारी देते हुए कहा कि दिल्ली सरकार ने प्रदूषण-रोधी उपायों के क्रियान्वयन की निगरानी के लिए छह सदस्यीय समिति का गठन किया है।

साथ ही इस दौरान उन्होंने वायु प्रदूषण की रोकथाम को लेकर जानकारी देते हुए कहा कि दिल्ली के अधिक प्रभावित इलाकों में वायु प्रदूषण की रोकथाम के लिए विशेष कार्य बल का गठन किया जाएगा। बता दे कि दिल्ली के कई इलाकों में वायु की गुणवत्ता काफी खराब स्तर पर दर्ज की गई है जिसने सरकार की चिंता बढ़ा दी है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending