योग से भागेगा कोरोना, स्वामी रामदेव ने बताया ‘राम बाण’ इलाज

बढ़ते कोरोना वायरस के मरीजों के बीच स्वामी रामदेव ने कहा कि,” जिन लोगों ने वैक्सीन लगवाने के बाद कोरोनिल नहीं खाई, उनके मुकाबले कोरोनिल खाने वालों में 100 फीसदी एंटीबॉडी पैदा हुई. अब वो कोरोना से संक्रमित नहीं होंगे.”
जानिए क्या कहा स्वामी रामदेव ने
स्वामी रामदेव (Swami Ramdev) ने कहा कि वैक्सीन लगाने के बाद भी हो रहा है कोरोना मैं वैक्सीन का विरोध नहीं कर रहा, वैक्सीन लगवाएं लेकिन योग और वैक्सीन की डबल डोज भी जरूरी है.उन्होंने आगे कहा कि कोरोना इस साल पहले से ज्यादा बलवान होकर लौटा है. 

ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह यादव तक तमाम बड़े-बड़े दिग्गजों को, बड़े-बड़े बॉलीवुड स्टार्स को और उन लोगों को जो हेल्थ आइकॉन माने जाते हैं, उनको कोरोना अपने चपेट में ले लिया. एक तरफ मास्क पहनना, चीजों को छूने के बाद हाथ सैनिटाइज करना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी है. वहीं दूसरी तरफ योग करना कभी भी नहीं छोड़ना है.
योग गुरु रामदेव ने कहा, ” हमने सारे देश को गिलोय, हल्दी और तुलसी के बारे में बताया था. इन तीनों का इस्तेमाल ज्यादा मात्रा में करें. इसके अलावा अदरक, काली मिर्च, लौंग और मुलेठी का काढ़ा बनाकर पिएं. हमने शुरुआती दौर में ही इस काढ़े को पीने के लिए बोला था. आज भी पूरा देश इस काढ़े का इस्तेमाल कर रहा है. इससे इम्युनिटी बढ़ती है. इस बारे में हमने पहले भी रिसर्च की और वैक्सीन के दौर में भी रिसर्च की.”
हमने अपने लोगों को वैक्सीन लगवाई और साथ में उन्हें कोरोनिल की मात्र एक गोली खिलाई. सरकार ने इसे एक पॉलिसी के रूप में डिक्लेयर किया इसलिए हमने वैक्सीन लगवाई. वैक्सीन लगवाने वाले आधे लोगों को हमने कोरोनिल खिलाई. जिन लोगों ने वैक्सीन लगवाने के बाद कोरोनिल नहीं खाई, उनके मुकाबले कोरोनिल खाने वालों में 100 फीसदी एंटीबॉडी पैदा हुई. अब वो कोरोना से संक्रमित नहीं होंगे.

उन्होंने आगे कहा कि कुछ लोग कहते हैं वैक्सीन के बाद संक्रमित होंगे लेकिन जान नहीं जाएगी. ये क्या बात हुई. इसीलिए आप वैक्सीन की डबल डोज के साथ योग-आयुर्वेद की डबल डोज भी लीजिए. जिन लोगों के फेफड़े की हालत बहुत ज्यादा खराब है, वह नॉर्मल स्वासरी की जगह पर स्वासरी गोल्ड ले सकते हैं. इसमें हमने त्रिकुटा, त्रिफला, अभ्रक और गोदंती आदि मिलाया है. मैं इसे पिछले 30 साल से इस्तेमाल कर रहा हूं. कोरोना से एक की भी जान नहीं जाए, यही हमारा मकसद है.

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending