मुंबई: 300 रु में कोरोना रिर्पोट नेगेटिव, 10000-12000 रु देकर मिल रही क्वारंटाइन से छुट्टी

भारत में कोरोना की स्थिति बेकाबू होती जा रही है हर दिन कोरोना के मरीजों का ग्राफ तेजी से बड़ रहा है कोरोना से मरने वाले लोगो की संख्या में भी तेजी से इजाफा हो रहा है. पहली बार देश में 1 लाख 84 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए है भारत में कोरोना के एक्टिव केस अब 13 लाख के पार हो चुके है.वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 18,021 के नए मामले सामने आए है और 85 लोगो की मौतें हुई. इन सब के बीच महाराष्ट्र में मंगलवार अप्रैल 12, 2021 को राज्य में 60 हजार से ज्यादा नए केस दर्ज किए गए, जबकि पूरे देश में 1.8 लाख के करीब नए मामले सामने आए. सिर्फ़ मुंबई की बात करें तो वहाँ एक दिन में 9986 केस आए हैं और स्थिति जस की तस है।हाल ही में आई एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोना के नाम पर चल रहा खेल और काला राज़ सामने आया है जिसने पूरी जमीन हिला कर रख दी है. रिपोर्ट के मुताबिक कई टूर एंड ट्रेवर कंपनी और मुंबई एयरपोर्ट में तैनात अधिकारी लोगों को 300 रुपए में कोविड 19 की नेगेटिव रिपोर्ट बना रहे है इससे पहले 10000-12000 रुपए देकर विदेश से आने वालों को क्वारटाइन करने की जगह घर भेजे जाने की बात सामने आई है.
खुलासा
रिपोर्ट में दर्ज शब्दों के मुताबिक, मुंबई में लॉकडाउन जैसी पाबंदियों के बाद कई लोग अपने घर लौटने को मजबूर हैं. कई राज्यों ने महाराष्ट्र से लौटने वालों के लिए कोविड-19 RT-PCR की नेगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य कर दिया है. लोगों की इसी मजबूरी का फायदा उठाकर टूर एंड ट्रैवल्स वालों ने नया धंधा शुरू किया है. यहाँ वे यात्रियों को 300 रुपए में कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट उपलब्ध कराते हैं, वो भी बिना टेस्ट के.इन सब बातो का खुलासा मिड डे के स्टिंग ऑपरेशन के जरिए हुआ है. ये ऑपरेशन मिड-डे ने घाटकोपर गोपाल भुवन स्टॉप और बोरिवली एसजीएनपी बस स्टॉप पर किया. जहां उन्होंने पाया कि कई ऐसी जगह है जहां कोरोना की फर्जी रिपोर्ट बनाई जा रही है सिर्फ महाराष्ट्र ही गुजरात और राजस्थान में भी यही काम हो रहा है जो आने वाले समय में देश के लिए एक बहुत बड़ा खतरा साबित होगा.
ज्ञात हो कि मंगलवार को क्राइम ब्रांच ने भी इस संदर्भ में मीरा रोड पर एक टूर बस ऑपरेटर का भंडाफोड़ किया था. लेकिन इन सब के बावजूद भी ट्रैवल एजेंट के कानों में जूं तक नहीं रेंगा और वह अब भी उसी तरह अपना बिजनेस चला रहे है. 
रिपोर्ट के मुताबिक, मिड डे के रिपोर्टर, गोपाल भुवन बस स्टॉप पर ऑपरेटर्स के दफ्तर गए और अपना स्टिंग किया. इस दौरान उन्हें 300 से 500 रुपए में नेगेटिव रिपोर्ट मुहैया करवाई गई. वहीं बस में काम करने वालों ने बताया कि रिपोर्ट की आवश्यकता सिर्फ़ महाराष्ट्र से गुजरात जाते हुए चेक प्वाइंट पर पड़ती है.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि उनके दिए फर्जी सर्टिफिकेट असली वाले से भी ज्यादा बढ़िया हैं, क्योंकि उनकी पहले ही सीमा पर तैनात पुलिस कर्मियों से साँठ-गाँठ हो रखी है, जिसके चलते पुलिस वाले उन्हें जाने देते हैं जबकि बाकी बस वालों को, यानी नियम पालन करने वालों को कई घंटे इंतजार करना पड़ता है.

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending