महाकुंभ – 2021 : गंगा के तट पर लगेगा आस्था का जमघट

महाकुंभ – 2021 की शुरवात अब कुछ ही दिनों में होने वाली है जिसको लेकर तैयारियों का दौर जारी है. इस बार महाकुंभ का आयोजन हरिद्वार में होने जा रहा है. हरिद्वार धार्मिक नगरी हैं और हिंदू धर्म में हरिद्वार का अलग ही महत्व है. हरिदवार में बहने वाल गंगा नदी के तटों पर अब साधु – संतो और श्रद्धालुओं के लिए कल्पवास का इंताम भी किया जाने लगा है. इन सब के बीच हरिद्वार महाकुंभ में फिर एक बार आस्था का जमघट लगेगा जिसमें लोग भक्ति में लीन नजर आएंगे. बात करते हैं शैव संप्रदाय की और वैषण्व संप्रदाय की. शैव संप्रदाय शिव महादेव को ईष्ट मानते हैं और वैष्णव संप्रदाय श्रीहरि को ईष्ट मानते हैं. महाकुंभ – 2021 में दोनों ही धाराओं का संगम होने जा रहा है. आपको बता दे कि आस्था का यह अद्भुत समागम युगों से चला आ रहा है, जो कि भारतीय संस्कृति की धरोहर है. इस बार महाकुंभ का आयोजन हरिद्वार के गंगा तट पर हो रहा है जो दुनियाभर का ध्यान अपनी और आकर्षित कर रहा है. वैष्णव संप्रदाय गंगा को श्रीहरि के चरणों से निकलने के कारण पवित्र मानता है और गंगा के तट पर उमड़ने वाले आस्था के सैलाब को देखने के सभी उत्सुक है.

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending