बैद्यनाथ के मंदिर में गैर हिंदू नहीं कर सकता प्रवेश: निशिकांत दुबे

जहां एक तरफ कोरोना अपना कहर बरसा रहा है वहीं दूसरी तरफ चुनावों का शोर भी कुछ कम नहीं है ऐसी ही एक खबर झारखंड के मधुपुर से आई है जहां विधानसभा उपचुनावों के मद्देनजर बाबा बैद्यनाथ मंदिर गए कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी को बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने दी चेतावनी कहा,”जैसे गैर मुस्लिम मक्का में नहीं जाते, वैसे बाबा बैद्यनाथ के मंदिर में गैर हिंदू प्रवेश नहीं कर सकता.”
बीजेपी सांसद ने आगे कहा, ” इरफान अंसारी गौमांस का सेवन करते है उन्हे खुद को शिवभक्त कहने का कोई अधिकार नहीं मैं ऐसे लोगो की तत्काल गिरफ्तारी की मांग करता हूं.”

गौरतलब हो की कांग्रेस नेता इरफान अंसारी 14 अप्रैल 2021 को देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ मंदिर पहुंचे थे. जहां पर उन्होंने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया था कि जब भी उनका मन विचलित होता है तो वह बाबाधाम आते हैं और चुपके से शीश नवाकर पूजा अर्चना करते हैं.

कांग्रेस नेता इरफान अंसारी के दिए इस बयान से नाराज होकर निशिकांत दुबे ने उन पर धार्मिक भावनाएं आहत करने और लोगो की आस्था से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया उन्होंने कहा, जिस तरह काबा में गैर मुस्लिम नहीं जा सकते, उसी तरह द्वादश ज्योतिर्लिंग बाबा बैद्यनाथ मंदिर में गैर हिंदू का प्रवेश नहीं हो सकता है. इरफान अंसारी ने वहाँ जाकर हिंदुओं की धार्मिक भावना से खिलवाड़ किया है.

इसके साथ ही बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने इरफान अंसारी पर रासुका लगाने और देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की बात कही, उनका कहना है कि इरफान का पागलपना बढ़ गया है वह कभी गौमाता पर बोलते हैं, कभी गंगा मैया पर, लेकिन इस बार जो किया, वह किसी भी चीज की हद है.

बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे के अनुसार, इरफान अंसारी यह सब चुनावों के कारण कर रहें है उनका प्रयास केवल चुनाव में हिंदू-मुस्लिम भावना भड़काने का हैं. अपने ट्वीट में भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने लिखा, “आज ग्लानि हुई कि मेरे सांसद रहते, बाबा बैद्यनाथ मंदिर के गर्भगृह में कॉन्ग्रेस विधायक इरफ़ान अंसारी ने पूजा के बहाने ज्योतिर्लिंग को स्पर्श कर अपवित्र करने का प्रयास किया,आस्था के अनुसार मक्का में गैर मुस्लिम का प्रवेश वर्जित है, गर्भगृह में गौमांस भक्षण करने वालों का प्रवेश?”

जानकारी के अनुसार, निशिकांत दुबे ने इस पूरे मामले पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की जहां उन्होंने डीसी-एसपी को बर्खास्त करने की माँग की ज्ञात हो की डीसी मंदिर प्रबंधन के सचिव हैं. दुबे ने घटना को शर्मसार करार देते हुए कहा कि ऐसा कभी नहीं हुआ था। एक बार फारूक अब्दुल्लाह भी मंदिर आए थे, लेकिन उन्हें भी प्रांगण तक ले जाया गया, गर्भगृह में जाने की अनुमति नहीं दी गई थी.

इन सब बातों के बीच बीजेपी की तरफ से भी एक बयान जारी किया गया जिसमे उन्होंने कहा की, “बैद्यनाथ धाम मंदिर में हिन्दू धर्म को छोड़कर किसी अन्य धर्म के व्यक्ति के जाने और पूजा-अर्चना करने पर पूरी तरह से मनाही है. ऐसे में इरफान अंसारी बाहरी होकर मंदिर गए और वहाँ उन्होंने पंडा समाज और ब्राह्मणों को नीचा दिखाया.”

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending