पीएम नरेंद्र मोदी के साथ बैठक के बाद महबूबा मुफ्ती बोली, पाकिस्तान से हो बातचीत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में गुरुवार को देश की राजधानी दिल्ली में जम्मू-कश्मीर को लेकर हुई बैठक के बाद जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने संवैधानिक और कानूनी रूप से राज्य का दर्जा और अनुच्छेद 370 की बहाली की मांग की, उन्होंने कहा, “यह अवैध रूप से किया गया था। यह भाजपा का 70 साल पुराना एजेंडा था और उन्होंने इसे पूरा किया।

” बता दें की पीएम मोदी की इस मीटिंग मे दिग्गज राजनेता और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला सहित 14 नेताओं ने भाग लिया। उन्होंने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री ने अनुच्छेद 370 को असंवैधानिक रूप से और स्थानीय सरकार को विश्वास में लिए बिना निरस्त किया था। महबूबा मुफ्ती ने आगे कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री को बताया कि अगर वे धारा 370 को हटाना चाहते हैं, तो उन्हें लोगों को जानकारी में रखते हुए ऐसा करना चाहिए था।

अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद से लोगों में डर है क्योंकि कानून प्रवर्तन एजेंसियां आम लोगों को केवल संदेह के आधार पर सलाखों के पीछे डाल रही हैं। महबूबा मुफ्ती ने उन लोगों को मुआवजे देने की भी मांग की, जो धारा 370 के निरस्त होने के बाद लॉकडाउन के कारण पीड़ित हुए थे। इतना ही नही उन्होंने कहा, “सरकार को सीमा पर कारोबार शुरू करने के लिए पाकिस्तान के साथ बातचीत शुरू करनी चाहिए।

” पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत को भी पाकिस्तान के साथ बातचीत शुरू करनी चाहिए क्योंकि उन्होंने संघर्ष विराम उल्लंघन को रोकने के लिए ऐसा किया था। वहीं पीएम मोदी ने इस बैठक के दौरान कहा कि, वह जम्मू-कश्मीर से दिल्ली और दिल की दूरी को खत्म करना चाहते हैं। पीएम मोदी के साथ बैठक के बाद कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने जम्मू-कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा वापस मिलने की बात करते हुए कहा कि, यहां विधानसभा चुनाव तुरंत कराए जाएं। साथ ही कश्मीरी पंडितों की वापसी और पुनर्वास की व्यवस्था हो।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending