दिल्ली में बढ़ती कोरोना की रफ्तार

देश में कोरोना के मामले फिर से बढ़ने लगे हैं और कहा जा सकता है कि कोरोनावायरस अपने पुराने रंग में लौट आया है. इसमें कोई शख नहीं है कि टीकाकरण का कार्य भी तेजी से चल रहा है और लोग बढ़-चढ़कर कोरोना का टीका लगवा रहे हैं. एक और जहां मुंबई में कोरोना का कहर जारी है तो वही राजधानी दिल्ली में भी कोरोना के बढ़ते मामलों ने कई सवाल खड़े कर दिए है. राजधानी दिल्ली में पिछले 2 दिनों से कोरोना के 3000 से अधिक मामले प्रतिदिन दर्ज किए जा रहे हैं. दिल्ली में कोरोना की रफ्तार तेज हो रही है जिस ने केंद्र की मोदी सरकार और दिल्ली की केजरीवाल सरकार की चिंता बढ़ा दी है. दिल्ली में कोरोना टेस्ट की संख्या बढ़ाई गई है और इस महामारी पर नियंत्रण के तमाम उपाय केंद्र और केजरीवाल सरकार कर रहे हैं. मुंबई के मुकाबले भले ही दिल्ली में कोरोना की रफ्तार कम हो पर कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी अच्छा संकेत नहीं है. मुंबई से सीख लेते हुए दिल्ली को सावधानी बरतने की जरूरत है. हालांकि ऐसा नहीं है कि दिल्ली में लोग कोरोना महामारी के प्रति जारी किए गए गाइडलाइन का पालन नहीं कर रहे हैं.  नियमों का पालन दिल्ली में किया जा रहा है लेकिन इसे निरंतर बनाए रखना जरूरी है. कोरोना के कारण दिल्ली के अस्पतालों में कोरोना के मरीजों किस संख्या में इजाफा यही कहता है कोरोना से जंग अभी समाप्त नहीं हुई है और कोरोना से जंग जीतने का एक ही तरीका है सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क लगाना और सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना.

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending