कोरोना संक्रमण से ठीक हो रहे लोगों को अब हो रही है ये दिक्कत, जाने लक्षण और बचाव उपाए

कोरोना वायरस की दूसरी लहर में बेशक संक्रमित मरीजों की संख्या में थोड़ी कमी आ गयी हो लेकिन, मौत के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना वायरस की वजह से लोगों को मानसिक स्वास्थ्य की परेशानी से जूझना पड़ रहा है। यही नहीं कोरोना वायरस लोगों को शारीरिक और मानसिक दोनों ही तरह से प्रभावित कर रहा है। अपनों से न मिल पाने, परिवार में संक्रमण की आशंका, आर्थिक और सामाजिक चुनौती जैसे तमाम विषयों को लेकर अनिश्चितता के माहौल ने लोगों में अनिद्रा की समस्या उत्पन्न कर दी है। वहीं डॉक्टर्स का कहना है कोरोना से ठीक होने के बाद बहुत से लोग नींद नहीं आने की परेशानी का सामना कर रहे हैं। इसे पोस्ट कोविड सिंड्रोम के रूप में देखा जा रहा है। तो आइये जानते है कि कोविड से उबरने पर अनिद्रा को कैसे दूर किया जा सकता है और कौन सी आदतें अनिद्रा को बढ़ावा दे सकती हैं?

 नींद की समस्या…

कोरोना वायरस कई तरह से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को अटैक करने के अलावा लोगों को नींद नहीं आने की वजह भी बन रहा है। दरअसल तमाम तरह की अनिश्चितताओं के कारण मस्तिष्क में स्ट्रेस हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है जो स्लीप साइकल को प्रभावित कर देती है, जिसके चलते लोगों को नींद की समस्या हो सकती है।

ऐसे लोग जिन्हें सही से नींद नहीं आती है। तो ऐसे में इससे न केवल कोरोना रिकवरी ठीक होती है बल्कि यह कई अन्य तरह की बिमारियों को जन्म दे सकता है। नींद न आना, नींद का बार-बार टूटना या सोने के बावजूद तरोताजा महसूस न होना अनिद्रा का संकेत हो सकता है।

कोरोना के बाद नींद संबंधी दिक्कतें क्यों?

दरअसल कोविड-19 के बाद लोगों को अनिद्रा की परेशानी होने की कई सारी वजह हो सकती हैं। कोविड के समय में टेंशन, तनाव और अकेलापन, गंभीर स्थिति में अस्पताल में भर्ती होने का डर लोगों को मानसिक रूप से परेशान कर रहा है। इसके अलावा कोविड के दौरान स्टेरॉयड के इस्तेमाल के चलते भी नींद की समस्याएं देखी जी रही हैं।

जिन भी लोगों को कोरोना से ठीक होने के बाद अनिद्रा की दिक्कत हो रही है, तो उन्हें तुरंत ही इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। क्योंकि कोविड जैसी बीमारी से तेज रिकवरी के लिए पर्याप्त नींद लेना सबसे ज्यादा क्योंकि इसमें होने वाली बाधा आपकी रिकवरी को काफी बुरी तरह  प्रभावित कर सकती है। ऐसे में अनिंद्रा से बचने के लिए नींद में सुधार लाने वाले उपायों को करना जरूरी है। साथ ही कोरोना पेशेंट्स को दिन के समय नहीं सोना चाहिए, इससे भी रात की नींद आने की दिक्कत बढ़ सकती है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending