कोरोना के नए लक्षण अब आंखें खराब और सुनने की शक्ति भी हो रही कम

दुनिया भर में तबाही मचाने वाले कोरोना के नए लक्षण उभरकर आने लगे है सामने जिससे कानों की सुनने की शक्ति में भी पड़ेगा गहरा असर साथ ही कोरोना के नए मरीजों को आंखों की गम्भीर समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है.अब तक कोरोना की पहचान मुख्य लक्षण बुखार, डायरिया, पेट दर्द, उल्टी-दस्त, अपच, गैस, एसिडिटी, भूख न लगना एवं बदन दर्द जैसे लक्षण ही सामने आए थे लेकिन जिस रफ्तार से यह फैला है उससे इसने और भी विकराल रूप ले लिया है. सिर्फ इतना ही नही कोरोना का सिर्फ रूप ही नही बल्कि लक्षण भी बदल गए है जो और भी ज्यादा भयावह है.जानकारी के अनुसार कई कोविड अस्पतालों में कोरोना के मरीजों को सुनने में परेशानी हो रही है चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार ज्यादातर कोरोना मरीजों की शिकायत हैं कि उन्हें उनके दोनो कानों से सुनाई नहीं दे रहा इनमें से कुछ ऐसे भी मरीज हैं जो केवल एक कान से ही सुन पा रहे हैं इस तरह की शिकायतें भी खूब आ रही हैं इसके अतिरिक्त कुछ कोरोना संक्रमित मरीजों की ओर से दिखाई कम देने की भी शिकायतें सामने आई है लेकिन चिकित्सकों का यह भी कहना है कि गम्भीर होने की अवस्था में शरीर के कई अंग प्रभावित होने लगते हैं लिहाजा कई अंगों पर इसका सीधा असर पड़ता दिख रहा है.डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान, लखनऊ में मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉक्टर विक्रम सिंंह कहते हैं, ‘दूसरे स्ट्रेन से संक्रमित मरीजों में से ज्यादातर की उ‌लटी-दस्त, अपच,गैस, एसिडिटी के अलावा बदन दर्द और मांसपेशियों में अकड़न तथा सुनने में परेशानी की शिकायत सुनने को मिल रही है।’अपने इस और भी विकराल रूप में आए कोरोना ने हर घर में तबाही मचाई है चिकित्सा विशेषज्ञों ने भी इस पर अपनी चिंता जाहिर की है. उनका कहना है कि अब हर व्यक्ति को इस संक्रमण से बचने के जतन करने होंगे. लापरवाही छोड़कर कर कोरोना के प्रोटोकॉल का पालन करना ही इसका मात्र उपाय है. ज्ञात हो कि कोरोना के नए स्ट्रेन के लक्ष्णों में जो अब तक वायरल बुखार के साथ डायरिया, पेट दर्द, उल्टी-दस्त, अपच गैस, एसिडिटी, भूख न लगना एवं बदन दर्द जैसे लक्षण की ही पहचान की गई थी अब उसमें सुनने व दिखाई देने में आ रही समस्या भी शामिल हो गई है. हालांकि नए वैरिएंट के मामले में राहत देने वाली बात यह है कि नया स्ट्रेन अगर रोगी की प्रतिरोधक क्षमता ठीक है तो अधिक समय तक परेशान नहीं करता और अधिकतम पांच से छह दिनों में सामान्य भी होने लगता है

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending