इस देश में 123 वर्षों से गिरफ्तार हैं ये पेड़, अंग्रेजों के जमाने में जंजीरों से इस पेड़ को गया था जकड़ा

इसांनो और जानवरों को गिरफ्तार किए जाने की बात अभी तक हमने और आपने सुनी है पर क्या आपने कभी किसी पेड़ को गिरफ्तार किए जाने की बात सुनी है ?  तो आज हम आपको एक ऐसे ही पेड़ के बार मे बताने जा रहे है जिसे आज से 123 साल पहले गिरफ्तार किया गया था और तभी से लेक अब तक ये पेड़ जंजीरों में जकड़ा हुआ है. दरअसल, ये पेड़ पाकिस्तान के लांडी कोटल आर्मी से लगा हुआ है.

इस पेड़ को गिराफ्तार किए जाने की कहानी की बता करे तो अंग्रेजों के जमाने में इस पेड़ को एक अग्रेंज जेलर की जिद के कारण गिरफ्तार कर जंजीरों मे जकड़ दिया गया था. इस पेड़ को गिरफ्तार किए जाने की कहानी आजादी से पहले की है जब पाकिस्तान भारत का हिस्सा था.

हुआ यू था की साल 1898 में नशे में धुत्त एक ब्रिटिश अफसर जेम्स स्क्वेड इस पार्क में टहल रहा था. इस दौरान वो एक बपगद के पेड़े के पास से गुजरा तो तभी उसे अचानक लगा की वो बर पेड़ उसकी और और रहा है और इस तरह वो काफी घबरा गया.

वहीं इसके बाद ब्रिटिश अफसर जेम्स स्क्वेड ने सेनिकों को आदेश दिया की इस पेड़ को गिरफ्तार कर लिया जाए. वहीं अंग्रेज अफसर के आदेश को मानते हुए सैनिकों ने बरगद के इस पेड़ गिरफ्तार करते हुए जंजीर से बांध दिया. कहा जाता है ये पेड़ उसी समय से जंजीर में बंधा हुआ है. वर्तमान में  पाकिस्तान के जिस जगह पर ये पेड़ है वो जगह एक तरह से पर्टनट स्थल सा बन गया है. लोग यहां आते है और इस पेड़ के साथ सेल्फी भी लेते है.

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending